Menu Pages

Ads

Showing posts with label Poem-Shayari. Show all posts
Showing posts with label Poem-Shayari. Show all posts

13 September 2019

Shayari - Yu Na Mayus Hoke Apne Irade Badal

Bujhi Shama Bhi Jal Sakti Hai,
Toofano Se Kashti Bhi Nikal Sakti Hai,

Hoke Mayus Yun Na Apne Irade Badal,
Teri Kismat Kabhi Bhi Badal Sakti Hai..
😊😊😑😑🙏🙏🙏

Shayari - Woh Meri Thi Yeh Batana Ajeeb Lagta Hai

Woh Meri Thi Yeh Batana Ajeeb Lagta Hai,
Ab Us Se Aankh Milana Ajeeb Lagta Hai.
Joh Zindagi Mein Kabhi Bhi Mera Ho Na Paaya,
Ab Us Ka Khwab Mein Aana Ajeeb Lagta Hai.
Bade Khuloos Se Dawat Toh Us Ne Bheji Hai,
Par Us Ki Mehfil Mein Jana Ajeeb Lagta Hai.
Tha Jis Ka Haath Hamesha Hamare Hathon Mein,
Ab Us Se Haath Milana Ajeeb Lagta Hai..
👏👏👏👏👏👏👏👏👏

4 August 2019

Chai Ka Cup - Funny Poem

Funny Jokes in Hindi - Chai ke Cup


O Farsh Ki Dhul Pe Pade,
Chand Pairo Ke Nishan..
O Chai Ke
2 Sukhe Cup.
O Khamosh
Dal Ke Sukhe Bartan
O Sukhi Padi
Chai Ki Patti Se Bhari
Bejan Chhanni..
iska Matlab Hai
Ki

Aaj
👩‍🍳Kamwali Nahi Aai Hai
Har Samay Guljar Sahab Hi Nahi Aate....😛😛😛😛😛😛😛😜😜😜😜
www.whatsappindia.in
____________________________________________
वो फ़र्श की धूल पे पड़े
चंद पैरों के निशान
वो चाय के
दो सूखे कप
वो ख़ामोश
दाल के सूखे बर्तन
वो सूखी पड़ी
चाय की पत्ती से भरी
बेजान छन्नी.
इसका अर्थ है
कि..
आज
👩‍🍳कामवाली नहीं आई
हर समय गुलज़ार साहब ही नहीं आते !!
😛😛😛😛😛😛😛😜😜😜😜

Mobile Funny Poem/Shayari

Mobile Funny Poem/Shayari



ये मोबाइल यूँ ही हट्टा कट्टा नहीं बना…
बहुत कुछ खाया – पीया है इसने
ये हाथ की घड़ी खा गया, 
ये टॉर्च – लाईट खा गया, 
ये चिट्ठी पत्रियाँ खा गया,
ये किताब खा गया।
ये रेडियो खा गया
ये टेप रिकॉर्डर खा गया
ये कैमरा खा गया
ये कैल्क्युलेटर खा गया।
ये पड़ोस की दोस्ती खा गया, 
ये मेल – मिलाप खा गया, 
ये हमारा वक्त खा गया, 
ये हमारा सुकून खा गया।
ये पैसे खा गया, 
ये रिश्ते खा गया, 
ये यादास्त खा गया, 
ये तंदुरूस्ती खा गया।
कमबख्त इतना कुछ खाकर ही स्मार्ट बना,
बदलती दुनिया का ऐसा असर होने लगा, 
आदमी पागल और फोन स्मार्ट होने लगा।
जब तक फोन वायर से बंधा था,
इंसान आजाद था।
जब से फोन आजाद हुआ है, 
इंसान फोन से बंध गया है।
ऊँगलिया ही निभा रही रिश्ते आजकल, 
जुबान से निभाने का वक्त कहाँ है? 
सब टच में बिजी है, 
पर टच में कोई नहीं है।

Loading...