Menu Pages

Showing posts with label CG Shayari. Show all posts
Showing posts with label CG Shayari. Show all posts

17 April 2020

गाँव के आदमी बड़े बिहनिया...- CG Lockdown Shayari

गाँव के आदमी बड़े बिहनिया 
             महुआ बीने जावत हे।
शहर के आदमी लॉकडाउन म
             घुसरे घुसरे अकबकावत हे।
गाँव म मुनगा भाजी सब घर 
              आयरन ल बढ़ावत हे..
शहर म सोयाबीन बड़ी ल
             आंटी रोज डबकावत हे....

सब के धंधा लॉकडाउन हे,
               एक रुपया नई कमावत हे
एक अकेल्ला मेडिकल वाला 
                मेछा ल अंटियावत हे..||

वो गुपचुप के ठेला,
                वो समोसा वो होटल
वो डिस्पोजल वो चखना , 
                 वो भट्ठी के अद्धी बोतल
                              रहि रहि के सुरता आवत हे ,

दिक्कत नई हे गाँव म संगी
                   महुआ के धार बोहावत हे
बायलर मुर्गा फ़ोकट म बदनाम, 
              140 ले गिर के 20 रुपया दाम* 
                           तभो ले खरीदने वाला नई भेंटावत हे..

आदमी ल मारत हे कोरोना 
                 अउ मुर्गा के जिनगी बचावत हे
सही समय म वो लॉकडाउन के आर्डर , 
            सही समय म वो सील करना बॉर्डर
                     धीरे धीरे कोरोना छत्तीसगढ़ ले नंदावत हे 

    भाग भाग रे भाग कोरोना 
              छत्तीसगढ़ तोला जड़ से मिटावत हे 

                जय जोहर संगवारी हो....