Type Here to Get Search Results !

Hindi Love Shayari Top 2

हाए ये कैसा मातम छाया हैं चारों और,

बेबसी, बेरुखी और लाचारी का कैसा आया हैं ये दौर ?

हाए ये कैसा मातम छाया हैं चारों और, बेबसी, बेरुखी और लाचारी का कैसा आया हैं ये दौर
Hindi Love Shayari

Whatsapp Share Button

पहले भी नजरे चुराते थे वो हमसे, दावा मुहोब्बत का  करते थे, खैर वो बात ही अलग है।


पहले भी नजरे चुराते थे वो हमसे,

दावा मुहोब्बत का  करते थे,

खैर वो बात ही अलग है।

Whatsapp Share Button