Mahavir Jayanti - जो पर-पीड़ा मन में धारे,

जो पर-पीड़ा मन में धारे, 
वो नयन नीर हो जाएगा...
जो नैनों की भाषा समझा, अनकही पीर हो जाएगा,
जो जीवन के व्यामोह मोह को तजकर गंगाजल से
तन-मन को तीर्थ बना लेगा, 
वो महावीर हो जाएगा
महावीर जयंती की शुभकामनाएं...
👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏

 Whatsapp Share Now